रोहतक (हरियाणा) : हरियाणा में ओबीसी कोटे के तहत आरक्षण की मांग को लेकर जाटों का आंदोलन हिंसक होने के बाद आज राज्य के नौ जिलों में सेना बुला ली गयी और रोहतक तथा भिवानी में कर्फ्यू लगाने के साथ ही हिंसा भड़काने वालों को देखते ही गोली मारने के आदेश जारी कर दिए गए हैं. हिंसक भीड़  द्वारा राज्य के विभन्नि हस्सिों में की गयी आगजनी के दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गयी और 25 अन्य घायल गए. जाट आरक्षण जनित हिंसा से अबतक कुल तीन लोगों की जान लोगों की मौत हो गयी है. कल देर रात जाट आंदोलन की स्थिति पर केंद्र सरकार के शीर्ष मंत्रियों गृहमंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, वत्ति मंत्री अरुण जेटली व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने बैठक की थी. आज फिर ये मंत्री दोबारा बैठक कर हालात की समीक्षा करेंगे.

केंद्र ने भी 3,300 अर्द्धसैनिक बलों को राज्य के लिए रवाना कर दिया है. रोहतक में हिंसक भीड ने कुछ पुलिसकर्मियों को बंधक बनाने के साथ ही राज्य के वत्ति मंत्री कैप्टन अभिमन्यु के घर को आग लगा दी और रोहतक, झज्जर, हांसी तथा कई अन्य जगहों पर कई सरकारी और निजी संपत्तियों को को भी आग के हवाले कर दिया गया. राज्यभर में कल स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया गया है और साथ ही सभी जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गयी हैं.

आर्थिक रुप से पिछडा वर्ग में आरक्षण की मांग कर रहे आंदोलनकारियों ने हिसार और रोहतक में टोल प्लाजा समेत पुलिस और निजी वाहनों , इमारतों , कार्यालयों को भी निशाना बनाया. दोनों टोल प्लाजा दल्लिी हिसार फाजल्किा राष्ट्रीय राजमार्ग पर पडते हैं. हरियाणा के डीजीपी यशपाल सिंघल ने चंडीगढ में एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि तोडफोड पर उतारु भीड में से किसी व्यक्ति द्वारा चलायी गयी गोली में घायल हुए बीएसएफ जवान द्वारा आत्मरक्षा में चलायी गयी गोली से एक व्यक्ति मारा गया.

रोहतक के उपायुक्त डी के बेहरा ने देर शाम बताया कि केवल एक व्यक्ति की मौत हुई है और तीन अन्य गंभीर रुप से घायल हैं. रोहतक स्थित पंडित भगवत दयाल शर्मा यूनिवर्सिटी आफ हेल्थ साइंसेज के वाइस चांसलर ओ पी कालरा ने भी बताया कि केवल एक व्यक्ति की मौत हुई है. उन्होंने बताया, ह्यअधिक लोगों की मौत केवल अफवाह है. केवल एक व्यक्ति मारा गया है और उसे यहां मृत अवस्था में ही अस्पताल में लाया गया था.’

उन्होंने बताया कि कुल 62 मरीजों को उपचार के लिए पीजीआईएमएस में भर्ती कराया गया था जिनमें से 22 गोली लगने से घायल हुए थे जबकि बाकी को शारीरिक चोटें थीं. लरा ने बताया कि कुल मरीजों में से तीन की हालत गंभीर है जन्हिें आईसीयू में रखा गया है. एक मरीज को सिर में चोट है जबकि दो को पेट में गोली लगी है.’

घायलों में पांच सुरक्षाकर्मी भी हैं. राज्य पुलिस प्रमुख ने बताया कि हालात के बेकाबू होने के चलते हिंसा से सर्वाधिक प्रभावित आठ जिलों रोहतक, झज्जर, जींद, भिवानी , हिसार , कैथल , पानीपत और सोनीपत में सेना को बुला लिया गया है. दल्लिी में सेना सूत्रों ने सेना के नौ कालम भेजे जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि करनाल में भी सेना भेजी जा रही है. एक सरकारी प्रवक्ता ने पीटीआई भाषा को बताया कि रोहतक और भिवानी के शहरी इलाकों की सीमाओं के भीतर कर्फ्यू लगा दिया गया है.

पिछले कुछ दिनों से जारी आंदोलन मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा सर्वदलीय बैठक में आंदोलन को खत्म करने की अपील करते हुए जारी किए गए बयान के तुरंत बाद हिंसक हो गया. प्रदर्शनकारियों ने इस अपील को खारिज कर दिया. हालांकि खट्टर ने आश्वासन दिया था कि समुदाय को आरक्षण मुहैया कराने के लिए एक समाधान निकाला जाएगा. रोहतक से करीब 50 किलोमीटर दूर हिसार छावनी से सेना की यूनिटों को रोहतक भेजा गया है और सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि इन्हें रोहतक और भिवानी के इलाकों में तुरंत तैनात किया जाएगा. (prabhatkhabar)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें