punjab-haryana-highcourt

हरियाणा के मुस्लिम बहुल इलाके में ईद के पहले मुस्लिमों को बीफ के नाम पर आतंकित करने के लिए बिरयानी में बीफ की जांच का मामला अब पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट पहुंच गया है.

हाईकोर्ट में हरियाणा की खट्टर सरकार, गौ सेवा आयोग के चेयरमैन, डीजीपी और मेवात के डीसी को के खिलाफ याचिका दायर की गई हैं. ये मामला हाईकोर्ट पहुँचने के बाद अब  खट्टर सरकार की मुसीबत बढ़ सकती हैं क्योंकि बिरयानी के सैंपल गौ सेवा आयोग के चेयरमैन के आदेश पर नियमों के खिलाफ जाकर उठाये गए थे.

और पढ़े -   कश्मीरी पंडित हमारे समाज का अभिन्न अंग, उन्हें वापस लौटना चाहिए: गिलानी

बिरयानी के सैंपल नियमों के खिलाफ जाकर उठाये की बात खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर खुद स्वीकार कर चुके हैं. इसके लिए उन्होंने गौ सेवा आयोग के चेयरमैन को फटकार भी लगाई थी.

क्योंकि इसी प्रकार की जांच अधिकार गौ सेवा आयोग के पास नहीं हैं ये अधिकार केवल खाद्य सुरक्षा विभाग के पास हैं. ऐसे में अब खट्टर सरकार की परेशानी बदना लाज़मी हैं.

और पढ़े -   अपने शपथ ग्रहण समारोह में योगी सरकार ने खर्च किए 1.83 करोड़ रूपये

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE