gujrat-high

कथित गौरक्षा के नाम पर मुस्लिम और दलित समुदाय पर गौरक्षकों के हमले के बाद गौरक्षकों द्वारा कानून को अपने हाथों में लेने पर पहले ही सवाल उठ रहे थे.

ऐसे में अब गुजरात हाई कोर्ट ने भी गौरक्षकों की भूमिका पर कड़ा रुख अपनाते हुए गुजरात सरकार से पूछा कि गौरक्षकों को गोमांस पकड़ने का अधि‍कार किसने दिया? साथ में कोर्ट ने यह सवाल भी उठाया कि आखि‍र गौरक्षक शिकायत में पुलिस की तरह के शब्दों का प्रयोग कैसे कर सकते हैं?

और पढ़े -   सिमी सदस्यों के एनकाउंटर में मिली सभी पुलिस अधिकारियों को क्लीन चीट

दरअसल दो महीने पहले गौरक्षकों ने 150 किलो गोमांस से लदी हुई एक रिक्शा को पकड़ा था, जिसकी शिकायत कालुपुर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज की गयी थी. पुलिस ने इस मामले में पांच आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर चार को गिरफ्तार भी किया था.

लेकिन पांचवें आरोपी गोसमोहम्मद गुलाम कुरेशी ने गिरफ्तारी से बचने के लिए हाई कोर्ट में अग्रि‍म जमानत याचिका दायर की थी. जिस की अग्रि‍म जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टि‍स परेश उपाध्याय ने कड़ा रुख अपनाते हुए पूछा, ‘गौरक्षक शिकायत में ट्रैप, वॉच जैसे शब्दों का इस्तमाल कैसे कर सकते हैं. गौरक्षकों को गोमांस पकड़ने का अधिकार किसने दिया, पहले ये स्पष्ट करें?’

और पढ़े -   इस्लाम अपनाने पर हुई थी फैजल उर्फ अनिल की हत्या, अब पिता ने भी अपनाया इस्लाम

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE