उत्तराखण्ड के रुड़की में गुरु और शिष्य के रिश्तें को शर्मसार कर देने वाला सामने आया है. जहाँ साम्प्रदायिकता के रंग में रंगे शिक्षक ने धार्मिक आधार पर भेदभाव की साऋ हदे पार कर दी.

मामला जलालपुरा गांव का है. राजकीय केंद्रीय विद्यालय के मुस्लिम छात्र के दाढ़ी रख कर स्कूल आने से नाराज शिक्षकों ने छात्र की जोर-जबरदस्ती से दाढ़ी काट डाली और उसे स्कूल में ही बंधक बना लिया. पीड़ित छात्र आसिफ अली ने बताया कि अध्यापक ने खुद ही आसिफ की दाढ़ी काट डाली और उसे पूरा दिन लैब में बंद करके रखा.

और पढ़े -   गुजरात में नवरात्रि से पहले कंडोम की बिक्री में 35 फीसदी की वृद्धि

हालांकि प्रधानाचार्य विपिन कुमार त्यागी का कहना है कि अध्यापक पर दाढ़ी काटने का आरोप बेबुनियाद है. उन्होंने बताया कि विद्यालय में बच्चों को स्टाइलिस दाढ़ी रखने के लिए मना किया जाता है. लेकिन धार्मिक तौर पर रखी गई दाढ़ी से किसी को विद्यालय में कोई आपत्ति नहीं है.

इस मामले में आसिफ के भाई शाहरुख ने सिविल लाइंस कोतवाली पहुचकर आरोपी अध्यापक के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए तहरीर दी है.

और पढ़े -   गौरक्षकों को ईद उल अजहा पर हुए कुर्बानी बकरों की तेरहवीं मनाना पड़ा महंगा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE