प्रभावशाली इस्लामिक मदरसे जामिया निजामिया में शुक्रवार को एक फतवा जारी किया गया। इसमें कहा गया कि इस्लामिक मान्यताएं और तर्क मुस्लिमों को ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाने की इजाजत नहीं देते हैं।

मदरसे के फतवा सेंटर के प्रमुख मुफ्ती अजीमुद्दीन ने इस आदेश की व्याख्या भी की है। उन्होंने कहा कि तर्कों के आधार पर एक इंसान ही दूसरे इंसान को जन्म दे सकता है और भारत की जमीन को माता बताना तर्कों से उलट है।

owaisi

‘घर वापसी’ है असली मकसद

AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि आरएसएस ने ‘भारत माता की जय’ का मामला ‘घर वापसी’ को प्रमोट करने के लिए उठाया है। उन्होंने कहा कि वह हिंदुत्व के खिलाफ हैं हिंदुओं के नहीं। उन्होंने कहा, ‘मैं अपने देश की पूजा नहीं करता, पर मैं अपने देश से प्यार करता हूं। मैं अपने देश के लिए वफादार हूं।’
Web Title: Fatwa against Bharat Mata slogan in Hyderabad

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें