मध्यप्रदेश में भोपाल के सिहोर जिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक किसान सम्मेलन करने वाले हैं। पीएम इस रैली में केन्द्र की फसल बीमा योजना के सिलसिले में किसानों को संबोधित करेंगे। लेकिन मोदी की इस रैली से किसान काफी दुखी है। इसके पीछे कारण यह है कि मोदी की इस रैली की चलते किसानों को उनकी अधपकी फसलों को काटने के लिए मजबूर किया जा रहा है।

और पढ़े -   मध्यप्रदेश में 15 दिन में 22 किसानों ने की आत्महत्या, बीजेपी कर्जमाफ़ी को बता रही फैशन

पीड़ित किसान सुरेश परमार का कहना है कि अधिकारियों ने उनसे खेत साफ करने को कहा है। फसल पकने से पहले ही काटने के अलावा दूसरा कोई तरीका समझ में नहीं आया। परमार के मुताबिक इससे 1.5 लाख रुपये के नुकसान का अंदेशा है। उन्हें दबाव के चलते अपनी अधपकी फसल को काटना पड़ रहा है। अब हमें बाजार में इन फसलों की सही कीमत भी नहीं मिलेगी जिससे हमें सस्ते में इन फसलों को बेचना पड़ेगा। राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन ने इन आरोपों से इनकार किया है। किसानों का कहना है कि ऐसा प्रधानमंत्री की रैली में आने वाली गाड़ियों की पार्किंग के लिए करवाया जा रहा है।

और पढ़े -   मुठभेड़ में मारा गया आनंदपाल, राजस्थान पुलिस ने रखा हुआ था 5 लाख का इनाम

किसानों ने बताया कि इस मसले पर गांव की महिला प्रधान ने कोई भी मदद करने के बजाय अपने हाथ खड़े कर दिए हैं. तहसीलदार और पटवारी किसानों से पेपर पर दस्तखत करवाकर खेत में खड़ी फसल कटवाने की इजाजत ले रहे हैं। खेतों से कंटीले तार से घिरा खंभा भी हटवाया जा रहा है। वहीं राज्य के गृहमंत्री बाबू लाल गौर ने भी कहा कि किसी भी किसान को फसल काटने के लिए मजबूर नहीं किया गया। (boltahindustan)

और पढ़े -   J&K पुलिस के कर्मचारियों को दी सलाह - सार्वजनिक स्थानों पर नमाज अदा करने से बचें

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE