1 जून से कर्ज माफी मांगों को लेकर सडक़ों पर आंदोलन कर रहे किसानों को महाराष्ट्र की बीजेपी सरकार पर कोई भरोसा होता नहीं है. इसका सबूत है राज्य में चार और किसानों की आत्महत्या. पिछले 24 घंटों में 4 किसानों ने आत्महत्या कर ली है.

ये किसान नासिक बीड और अकोला के रहने वाले है. ये आत्महत्या ऐसे समय में की गई है. जबकि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस ने कह चुके है कि सरकार कृषि ऋण को माफ कर देगी जो प्रदेश में अब तक की सबसे बड़ी ऋण माफी होगी. बावजुद किसानों ने मौत को गले लगाया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, अकोला में 45 साल के किसान गणेश कालबेंडे ने 6 जून को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. अगणेश ने 80 हजार का कर्ज लेकर 2.5 एकड़ में अरहर दाल की बुआई की थी, लेकिन फसल कम होने से उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ा और बैंक का कर्ज चुकाना मुश्किल हो गया था.

वहीँ नासिक के लासल गांव निवासी 40 साल के गोरख कोकने ने 5 जून को खुदकुशी की. गोरख कोकने पर 2.5 लाख का कर्ज था. नासिक के नवनाथ भालेराव ने भी 5 जून को जहर पीकर खुदकुशी कर ली. इसके अलावा  बीड के सूर्यभान बाबूराव गुंजाल पर भी 1 लाख 20 हजार रुपये का कर्ज था. हिवार वाड़ी गांव निवासी सूर्यभान ने जहर पीकर खुदकुशी की है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE