13_09_2016-kashmir20july16

पूरी दुनिया ईद की खुशिया मना रही हैं लेकिन हमारे देश में एक हिस्सा ऐसा हैं जो खुशियाँ नहीं गम मना रहा हैं. लगभग तीन महिनों से अपने घरों में केदियों की जिंदगी गुजार रही कश्मीरी अवाम पहली बार ईद पर खुशियाँ मनाने से मरहूम हैं.

लोगों को ईदगाह और मस्जिदों में नमाज पर पाबन्दी होने के कारण अपने घरों और कॉलोनियों में ईद की नमाज अदा करने के लिए मजबूर होना पड़ा हैं. ईद के दिन भी कश्मीर की सड़के खून से लाल होने से नहीं बच सकी. पुलवामा ज़िले में सुरक्षाबलों के साथ हुए झड़प में दो युवक के मौत हो गई और करीब 50 लोगों के घायल होने की ख़बर है.

माना जा रहा हैं कि पहली बार कश्मीर में ईद पर कर्फ्यू के कारण ईदगाह में नमाज अदा नहीं हो सकी हैं. घाटी 10 जिलों में  अब भी कर्फ्यू लगा हुआ है. कर्फ्यू की कमान सेना के हाथ में हैं.

जुलाई में हिज़बुल मुजाहिदीन के कथित कमांडर बुरहान वानी की एक मुठभेड़ में मौत के बाद से कश्मीर घाटी में 70 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और सैकड़ों सुरक्षाकर्मियों समेत हजारों लोग घायल हुए हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें