मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में एक ट्रक से तीन गायों को कूचले जाने के बाद ट्रक के ड्राइवर और क्लीनर ने नदी में छलांग लगा दी थी जिसके बाद लिस के लाख प्रयासों के बावजूद ट्रक ड्राइवर एवं क्लीनर का कोई पता नहीं चला था. घटना के दूसरे दिन क्लीनर मोसिन सुबह स्वयं थाने पहुंच गया और पुलिस को घटना की जानकारी दी.

45 साल के ड्राइवर और क्लीनर मोहसिन रईस खान ने गुरुवार रात उस समय बरना नदी में छलांग लगा दी जब उनकी गाड़ी से तीन गाय कुचल गई थी. पिटाई के डर से भागे ड्राइवर ने पहले एक दूसरे ट्रक को मारी फिर दोनों नदी में कूद गए. 22 साल के क्लीनर ने तैर किसी तरह से अपनी जान बच गई और पूरी रात एक पत्थर पर बैठकर गुजारी.

और पढ़े -   कर्नाटक - बीजेपी नेता येदियुरप्पा ने दलित के घर होटल से मंगाकर खाया खाना

क्लीनर मोहसिन ने बताया, ‘उसने पूरी रात एक पत्थर पर बैठ कर गुजारी, उसे बुखार था फिर भी उसने रात गुजारनी वहीं बेहतर समझा. उसने बताया कि वह अपनी जान को लेकर घबरा गए थे और हमने सोचा कि गाय को मारने की वजह से लोग हमें नहीं छोड़ेंगे. तीन-चार लोग गालियां दे रहे थे। इसलिए जान बचाने के लिए हम नदी में कूद गए.

और पढ़े -   मध्यप्रदेश: वरिष्ट बीजेपी नेता का बेटा एक साल के लिए जिला बदर, दंगा कराने का भी है आरोप

घटना के तीन दिन बाद शनिवार को सुबह करीब 9 बजे किसी राहगीर ने थाने में सूचना दी कि पिपलिया घाट के पास किसी व्यक्ति लाश नदी में तैर रही है. जानकारी मिलते ही थाना प्रभारी पुलिस बाल के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर लाश को नदी से बाहर निकलवाया और संदेह के आधार पर क्लीनर मोहसिन से पहचान करवाई तो वह लाश ट्रक ड्राइवर मणिकाल की ही निकली. पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के बाद उसके परिजनों को सौंप दी.

और पढ़े -   गौआतंक से सरकारी मुलाजिम भी सुरक्षित नहीं, रेलवे ड्राईवर सहित स्टेशन मैनेजर को पिटा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE