ambed

फरीदाबाद के दौलताबाद गाँव में उस वक्त हालात उग्र हो गए जब हरियाणा पुलिस गाँव में डॉ. भीमराव अंबेडकर की मूर्ति हटाने के लिए पहुंची. संविधान दिवस पर संविधान निर्माता के इस अपमान पर स्थानीय लोग उग्र हो गए और उन्होंने पुलिस पर हमला बोल दिया.

करीब डेढ़ घंटे तक चले संघर्ष में पांच पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए वहीँ 18 स्थानीय लोगों को हमला करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. पुलिस प्रशासन की इस कारवाई के खिलाफ 400 लोगों ने अर्धनग्न होकर एनएच-2 से प्रदर्शन भी किया.

और पढ़े -   अमेरिका के दखल से कश्मीर भी सीरिया और इराक बन जाएगा: महबूबा मुफ़्ती

प्रदर्शनकारियों ने मोदी और खट्टर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए संसद के लिए कूच किया. लेकिन दिल्‍ली पुलिस ने उन्‍हें आली गांव के पास रोक लिया. संविधान दिवस पर संविधान निर्माता बाबा साहब अंबेडकर की मूर्ति हटाने की ये कारवाई खट्टर सरकार के लिए काफी भारी पड़ सकती हैं.

स्थानीय ग्रामीण विकास चौधरी का कहना हैं कि प्रशासन की यह कार्रवाई निंदनीय है. संविधान दिवस (26 नवंबर)के मौके पर पूरा देश जहां बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर को नमन कर रहा है वहीं मनोहर लाल खट्टर सरकार ने आज सोची समझी साजिश के तहत बाबा साहब की मूर्ति को खंडित करके यह दिखा दिया है कि यह दलित विरोधी सरकार है.

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE