देश की राजधानी राजधानी जंतर-मंतर पर तमिलनाडु से आए किसानों ने विभिन्न तरीकों से प्रदर्शन कर कर्जमाफी की गुहार लगाई थी, हालांकि उनकी ये मांग अब भी पूरी नहीं हुई है. जिसके चलते किसानों की आत्महत्या का सिलसिला जारी है.

वहीँ दूसरी और तमिलनाडु सरकार ने बुधवार को राज्य के विधायकों की तनख्वाह दोगुनी से ज्यादा बढ़ाकर 105,000 प्रति माह कर दी. मुख्यमंत्री इदाप्पादी के. पलानीस्वामी ने विधानसभा को बताया कि विधायकों को इस समय प्रतिमाह 50,000 रुपये वेतन प्राप्त हो रहा है. बेसिक और अन्य भत्तों में वृद्धि के कारण यह अब इससे दोगुना हो जाएगा.

और पढ़े -   भगवा चोले में सामने आया हवस का पुजारी, स्वामी कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी पर यौन शोषण का मामला दर्ज

इसके अलावा पूर्व विधायकों की प्रतिमाह पेंशन 12,000 से बढ़ाकर 20,000 रुपये कर दी गई है. यह बदलाव 1 जुलाई, 2017 से लागू होगा. पलानीस्वामी ने राज्य के मुख्यमंत्री, मंत्रियों और विधानसभा स्पीकर के भत्तों में 25,000 रुपये प्रतिमाह की वृद्धि करने की भी घोषणा की.

विधानसभा के उपाध्यक्ष, विपक्ष के नेता और मुख्य सचेतक के भत्तों में भी वृद्धि की गई है. अब यह वृद्धि के साथ 47,500 रुपये प्रति माह हो गए हैं. विधानसभा क्षेत्र विकास निधि को 50 लाख से बढ़ाकर 2.50 करोड़ रुपये कर दिया गया है.

और पढ़े -   गौरक्षकों को ईद उल अजहा पर हुए कुर्बानी बकरों की तेरहवीं मनाना पड़ा महंगा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE