कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह गरीबी रेखा से नीचें जीवनयापन करते हैं. साथ ही उनके विधायक पुत्र जयवर्धन सिंह, और उनकी स्वर्गीय पत्नी आशा सिंह का नाम भी गरीबीरेखा यानि बीपीएल सुंची में है.

इसका खुलासा तब हुआ, जब सर्वेक्षण के आधार पर केंद्र सरकार द्वारा गरीब परिवारों को रसोई गैस सब्सिडी पर उपलब्ध कराने गैस एजेंसी संचालकों को गरीबी रेखा के नीचे रहकर जीवन-यापन करने वाले लोगों की सूची भेजी गई. राघौगढ़ गैस एजेंसी संचालक के पास जैसे ही यह सूची पहुंची तो पता चला कि इस सूची में राघौगढ़ राज परिवार के नाम भी शामिल हैं.

मामलें का खुलासा होने के बाद दिग्विजय ने आज सुबहइस मुद्दे पर ट्वीट कर कहा, ‘‘ हमने बीपीएल के अधीन मिलने वाले लाभों को पाने के लिए कभी कोई आवेदन नहीं दिया. यह मेरे और मेरे परिवार के खिलाफ साजिश है’’  सिंह ने आगे लिखा, ‘‘ इसके लिए जो भी जिम्मेदार है उन्हें माफी मांगनी चाहिए और उन्हें सजा भी दी जानी चाहिए’’

और पढ़े -   मदरसा परीक्षा में टॉप 10 में आकर इस हिन्दू लड़की ने रचा इतिहास

ff

साथ ही उनके पुत्र विधायक जयवर्धनसिंह ने कहा कि एक तरफ जहां गरीब परिवारों को बीपीएल सूची से हटाकर उन्हें शासकीय योजनाओं के लाभ से वंचित रखा जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ उनके परिवार को फर्जी तरीके से गरीबी रेखा में शामिल कर राघौगढ़ की जनता के साथ विश्वासघात किया जा रहा है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE