महिला की कोख भरने का झांसा देकर दुष्कर्म करने के आरोप में उत्तराखंड सरकार में राज्य मंत्री रह चुके मौलाना मसूद मदनी को जमानत मिल गई है.

इलाहाबाद हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति अरविंद कुमार त्रिपाठी ने मदनी की जमानत याचिका स्वीकार करते हुए यह आदेश पारित किया. हरियाणा में जींद जिले की रहने वाली इस महिला की शिकायत पर मदनी को इस साल मार्च में गिरफ्तार किया गया था. मदनी जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव एवं पूर्व राज्यसभा सदस्य मौलाना महमूद मदनी के भाई हैं.

और पढ़े -   पीएम मोदी का वाराणसी दौरा, योगी सरकार का हर मदरसे को 25-25 महिलाओं को भेजने का आदेश

हालांकि शुरूआती जांच में खुलासा हुआ है कि जिस महिला ने बलात्कार की शिकायत कीथी उसका नाम और पता फर्जी है. सहारनपुर रेंज के डीआईजी जितेंद्र कुमार शाही के अनुसार, महिला द्वारा मजिस्ट्रेट और पुलिस के समक्ष अपने बयान में जो नाम और पता दिया गया था वह गलत निकला.

डीआईजी के अनुसार महिला के साथ रेप तो हुआ है लेकिन, रेप की जो वजह महिला ने पुलिस को बताई थी वह शायद गलत है.

और पढ़े -   मथुरा के मंदिर में साध्वी से बलात्कार, पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE