fansi

देश भर में नोटबंदी के कारण आत्महत्या के मामले बड़ते ही जा रहे हैं ऐसा ही एक और मामला राजधानी दिल्ली में पेश आया हैं. जहाँ गुरुवार को 12 लाख रुपये मूल्य के पुराने नोट न बदल पाने की वजह से फ़ासी लगाकर आत्महत्या कर ली.

दिल्ली में खानपुर के राजूपार्क में किराए पर रह रहे 25 वर्षीय वीरेंद्र कुमार बासोया ने फ्लैट खरीदने के लिए 12 लाख रुपये एकत्रित करके रखे हुए थे. नोट बंद होने की वजह से वीरेंद्र काफी दिनों से परेशान थे. वीरेंद्र ने कई बैंकों में नोट बदलवाने की कोशिश की लेकिन वे सफल नहीं हो पाए तो उन्होंने आत्महत्या कर ली.

वीरेंद्र की गर्भवती पत्नी रौनक ने बताया कि वीरेंद्र अपना फ्लैट खरीदने के लिए बचा-बचाकर जुटाए गए 12 लाख रुपये मूल्य के पुराने अमान्य नोटों को न बदलवा पाने के कारण बेहद तनाव में चल रहा था. रौनक ने कहा, वह (वीरेंद्र) रोज अलग-अलग बैंकों में जाते थे, लेकिन कहीं भी नोट बदले नहीं जा सके.

रौनक ने आगे बतया कि वीरेंद्र कुछ दिन पहले एक व्यक्ति के संपर्क में आया था जिसने 12 लाख रुपये बदलवाने के बदले चार लाख रुपये कमीशन की मांग की थी. अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त नूपुर प्रसाद ने बताया, कोई सुसाइट नोट नहीं मिला है. जरूरी कानूनी कार्यवाही शुरू कर दी गई है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें