दिल्ली : दिल्ली की सेशन अदालत ने एक स्थानीय व्यापारी को बलात्कार के संगीन आरोप से ये कहकर बरी कर दिया कि ‘अपनी साली के साथ अक्सर सेक्स करने को बलात्कार नही कहा जा सकता ’.

दिल्ली सेशन कोर्ट का फैसला: जीजा-साली के “अन्तरंग रिश्ते” को बलात्कार कहना गलतदिल्ली के अडिशनल सेशन जज संजीव जैन ने अहम फासिला देते हुए कहा कि आरोपी व्यापारी के खिलाफ बलात्कार का मुकदमा उसकी साली ने तब दर्ज कराया जब दोनों के अन्तरंग रिश्तों की कलई खुल गयी थी. जांच में ये पाया गया की व्यापारी और उसकी साली जॉइंट वेंचर में बिजनेस करते थे और धीरे धीरे उनमे शारीरिक सम्बन्ध स्थापित हो गये. दोनों एक दूसरे के करीब आये और अक्सर सेक्स करने लगे.

और पढ़े -   गौशाला में गौ-माताओं को मार कर खालों की तस्करी करता था बीजेपी का गौभक्त नेता

कोर्ट का कहना है कि दोनों शादीशुदा थे और बालिग़ थे. समझदार होते हुए भी दोनों ने अन्तरंग रिश्ते बना लिए. तीन साल तक दोनों के बीच सेक्स होता रहा. ये सेक्स मर्ज़ी से हुआ था. कोर्ट के मुताबिक जब साली जीजा के नाजायज रिश्ते घर में पता लगे तो साली ने लोकलाज से बचने के लिए अपने जीजा पर बलात्कार का मुकदमा दर्ज करा दिया. अदालत की नज़र में ये रिश्ता सहमति के साथ बना था और इसे बलात्कार नही कहा जा सकता है. (इंडिया संवाद ब्यूरो)

और पढ़े -   बिहार: गौरक्षकों ने पहले मुस्लिमों की पिटाई, फिर भी पीड़ितों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE