दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना अहमद बुखारी की अगुवाई में एक मुस्लिम प्रतिनिधिमंडल रविवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से उनके आवास पर मिला। सुबह 11 बजे हुई यह मुलाकात करीब डेढ़ घंटे चली। इस बातचीत में मुख्यमंत्री के समक्ष कई मांगें रखी गयीं। मुख्यमंत्री को शनिवार को यहां हुए मुस्लिम प्रतिनिधि सम्मेलन में पारित प्रस्ताव भी दिया गया।

इमाम बुखारी की अगुवाई में मुख्यमंत्री से मिला प्रतिनिधिमंडल

इमाम बुखारी ने मुख्यमंत्री से हुई बातचीत का ब्यौरा देते हुए बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की कि मुस्लिम बहुल इलाकों में उर्दू की शिक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम किए जाएं। इसके साथ ही सुरक्षा बलों में भर्ती करने के लिए मुस्लिम बहुल इलाकों में विशेष भर्ती कैम्प लगाए जाएं। मुख्यमंत्री से मांग की गई कि मुस्लिम बहुल इलाकों में मुस्लिम अफसरों की पोस्टिंग करवाई जाए। आतकंवाद से जुड़े फर्जी मामलों में जेलों में बंद निर्दोष मुस्लिम युवकों को जल्द से जल्द रिहा करवाने के इंतजाम किए जाएं। इसके साथ ही समाजवादी पार्टी के घोषणा पत्र में मुलसमानों को आरक्षण देने का जो वादा किया गया था उसे पूरा किया जाए।

मुख्यमंत्री से हुई इस मुलाकात में इमाम मौलाना अहमद बुखारी के अलावा उनके छोटे भाई और मुस्लिम मजलिस-ए-अमल के सचिव तारिक बुखारी, एडवोकेट राहत महमूद चौधरी, एडवोकेट राशिद कमाल सामानी और सरताज जीलानी के अलावा कानपुर, अलीगढ़, इटावा, महोबा, देवरिया, मुरादाबाद और बिजनौर आदि जिलों के प्रतिनिधि शामिल थे। (livehindustan)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें