cow

पिछले दिनों गुजरात में मरी गाय का खाल उतारने वाले चार दलित युवकों की पिटाई का प्रतिशोध सुरेंद्र नगर में देखने को मिला. स्थानीय पत्रकार प्रशांत दयाल के मुताबिक़ सोमवार को विरोध प्रदर्शन कर रहे दलित गुटों ने गुजरात के सुरेंद्रनगर ज़िला मुख्यालय के सामने मरी हुए गायें फेंकी.

विरोध का नया तरीका अपनाते हुए दलित समाज के लोगों ने मरी हुई गायों को ट्रकों में भरकर कलेक्ट्रेट पर पहुंच गए और उन्हें वहां फेक दिया और बोला कि संभालो अपनी मांओं को. इस मामलें को सोशल मीडिया पर ज़ोरशोर से उठाया जा रहा है.

वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत को संबोधित करते हुए फ़ेसबुक पर लिखा, “तीन ट्रक…संघियों आगे बढ़ो…अंतिम संस्कार करो…मोहन भागवत जी को तत्काल गुजरात पहुंचना चाहिए….”

xx

फ़ेसबुक पर लीलाधर मेघवाल ने लिखा, “इससे अच्छा विरोध करने का तरीक़ा हो भी नहीं सकता…क्या बेहतरीन तमाचा जड़ा है.”

सुरेश राजवंश ने लिखा, गौ माता बोलते हो तो अपनी माता का अग्निसंस्कार भी तुम ही करो।।।।।
शंभू कुमार सिंह ने लिखा, दलितों की पिटाई का गुजरात मॉडल विरोध। लोगों को गाय कलेक्टर दफ्तर के बदले आरएसएस के दफ्तर पर पहुंचानी चाहिए। करें वो अपनी मां का अंतिम संस्कार।
Gujarat-Dalits-Beaten-Over-Allged-Cow-Slaughter
गौरतलब रहें कि सोमवार रात गुस्साए दलितों ने राजकोट के पास धोराजी में दो बसों को फूंक दिया. ये दोनों बसें गुजरात सरकार की परिवहन निगम की बसें थीं. जिले में उग्र होते प्रदर्शन को देखते हुए मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल ने मामले की जांच के लिए CID को आदेश दे दियें है.

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें