36 कौमों को साथ लेकर चलने वाली मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की सरकार में दलितों पर होने वाले अत्याचार के नित्य नए मामलें सामने आ रहे है. जालोर जिले में सियाणा के पास आडवाड़ा गांव में दलितों के मंदिर में प्रवेश करने पर सवर्णों ने पीट पीट कर उन्हें लहुलुहान कर दिया.

दरअसल गाँव में हाल ही में एक नए मन्दिर का निर्माण हुआ था. दलितों की गलती इतनी थी कि वह नवनिर्मित मंदिर के दर्शन करने चले गए. मंदिर की सोमवार को ही प्रतिष्ठा हुई थी. जिसके तहत बाड़मेर के चंचल प्रागमठ से संत शंभूनाथ भी आडवाड़ा पहुंचे थे.

मंगलवार सवेरे वे अपने भाविकों के साथ रामदेव मंदिर में बैठे थे. इस दौरान उन्होंने नवनिर्मित मंदिर में दर्शन की इच्छा जाहिर की. जिस पर भाविक उन्हें लेकर मंदिर पहुंचे. जहां पर वे शंभूनाथ, धीरजनाथ, उदाराम व सदाराम समेत मंदिर पहुंचे.

मंदिर से लौटते वक्त मौके पर मौजूद विजयसिंह, मुकेशसिंह, चौथाराम, चेताराम, छगनलाल देवासी समेत अन्य ने घात लगाकर उन पर लाठियों से हमला कर दिया. जिसमें कई लोग घायल हो गए. गंभीर रुप से घायल तीन लोगों को जालोर रेफर किया गया.

वहीँ, जालोर पुलिस उप अधीक्षक दुर्गसिंह राजपुरोहित ने कहा कि यह मामला छुआछूत का नहीं है. विवाद खाना बनाने वाले लड़के से हुआ था जिसके बाद मामला मारपीट तक पहुंच गया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE