मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से अब उन्हीं की विधानसभा के दलित इच्छामृत्यु की मांग कर रहें हैं. शिवराज सिंह की विधान सभा बुढनी के कुछ दलित परिवारों ने उनसे मुलाक़ात कर इच्छामृत्यु की मांग की हैं.

सन् 2002 में बुढनी के दलित परिवारों को तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा  7-7 बीघा जमीन देने की घोषणा की गयी थी. लेकिन 14 वर्ष बीत जाने के बाद भी अब तक उन्हें जमीनों के पट्टे जारी नहीं किये गए हैं. खास बात ये हैं कि 2002 के बाद से ही लगातार राज्य में बीजेपी की सरकार है.

और पढ़े -   दूरदर्शन और आकाशवाणी ने स्वतंत्रता दिवस पर त्रिपुरा के सीएम के भाषण नहीं किया प्रसारित

ऐसे में जमीनों के पट्टे न मिलने पर लगभग 50 दलित परिवारों ने मुख्यमंत्री को एक ज्ञापन देकर कहा है कि या तो उन्हें जमीनों के पट्टे दिय़े जाये या फिर उन्हें इच्छा मृत्यु की इजाजत दी जाए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE