जाट हिंसा के दागियों को क्‍लीनचिट देने का था मंत्रियों का दबाव: प्रकाश सिंह

जाट आरक्षण आन्दोलन में हुई हिंसा की जाँच करने वाले प्रकाश सिंह के बयानों ने राजनितिक गलियारों में खलबली मचा दी हैं. प्रकाश सिंह को हिंसा में शासकीय अफसरों की भूमिका की जाँच का दयित्व सोंपा गया था. उन्‍होंने कहा है कि जांच के दौरान उन पर दवाब बनाने की कोशिश की गई  थी. प्रकाश सिंह ने कहा है कि कुछ मंत्री चाहते थे कि दोषियों को बेदाग करार दिया जाए. हालाँकि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया.

प्रकाश सिंह ने ये भी साफ कर दिया कि लाख दवाब के बावजूद उन्होंने अपने फर्जों और कर्तव्यों के साथ कोई समझौता नहीं किया. इतना ही नहीं प्रकाश सिंह ने सरकार से मांग की है कि उनकी रिपोर्ट को जल्द से जल्द सार्वजनिक कर दिया जाए जाए, जिससे तरह-तरह के कयासों पर विराम लग सके.

प्रकाश सिंह ने सरकार की ओर से अब तक की गई कार्रवाई पर संतोष जताते हुए तारीफ की है. साथ ही उम्मीद जताई है कि सरकार एक महीने के भीतर उनकी ओर से की गई सिफारिशों को आखिरी अंजाम दे देगी.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें