दारोगा अख्तर खान के पिता ने आरोप लगाया कि उनके बेटे को साजिश के तहत मारा गया हैं. कोतवाल, दारोगा समेत 12 पुलिसवाले मौके पर होने के बावजूद अख्तर को अकेला छोड़ कर भागचले आये क्यों?

Dadri Daroga Shaheed: Why police fled from the schene time of encounter

उन्होंने सवाल उठाया कि गोली लगने के बाद भी समय रहते उनके बेटे को अस्पताल क्यों नहीं ले पहुँचाया गया. इस पूरी घटना में दादरी पुलिस टीम तरह शामिल हैं. उन्होंने सभी दोषी पुलिसवालों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई के लिए सीबीआई जांच की मांग की हैं.

उनके भाई ने भी सवाल उठाते हुवे कहा हैं कि कोट पुलिस चौकी पर तैनात होने के बावजूद उनके भाई को दादरी की दबिश में क्यों ले जाया गया? दरवाजा खुलवाते वक्त बाकी पुलिसवाले साथ क्यों नहीं थे? गोली लगने के बाद भी मेरा भाई तड़पता रहा और उसे अस्पताल पहुंचाने की किसी ने हिम्मत नहीं की. उन्होंने कहा कि मेरे भाई की पुलिस वालों ने ही साजिश कर हत्या की हैं.

 


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें