जबलपुर: कई लोग समाज में बेहतर बदलाव लाने के इरादे से आईएएस बनने का सपना देखते हैं, लेकिन जबलपुर के सह-कलेक्टर रोमन सैनी ने समाज के गरीब तबके के बच्चों को क्वालिटी एजुकेशन देने के लिए अपने आईएएस के पद को छोड़ दिया है.

ये खबर पढ़कर आप भी करेंगे जबलपुर के इस कलेक्टर के जज्‍बे को सलाम...

दरअसल, आईएएस बनने के बाद से ही रोमन सिविल सर्विस के उम्मीदवारों को अपने यूट्यूब चैनल ‘अनअकैडमी’ से  मुफ्त ऑनलाइन कोचिंग दे रहे हैं ताकि कोई भी अपनी प्रतिभा को साबित करने में पीछे न रह जाए. इसी पर और ध्यान देेने के लिए उन्होंने आईएएस के पद से इस्तीफा देने का फैसला लिया.

रोमन का कहना है कि वो आईएएस की नौकरी करते हुए बच्चों को पढ़ाने का काम पूरा नही कर पा रहे थे और उनकी अकेडमी को देखने वालों की तादाद भी लगातार बढ़ती जा रही है. ऐसे में उन्होंने जबलपुर में ज्यादा दिनों तक काम नहीं किया और लंबी छुट्टी पर चले गए. लेकिन हमेशा छुट्टी पर रहना संभव नहीं है इसलिए उनके पास इस्तीफा ही इकलौता रास्ता था.

और पढ़े -   सृजन घोटाला: बीजेपी नेता के घर पर छापा, 3 अरब की संपत्ति का हुआ खुलासा

‘अनअकेडमी’ के  1 लाख सब्सक्राइबर्स

आईएएस अफसर सैनी के ऑनलाइन कोचिंग प्लेटफॉर्म ‘अनअकेडमी’ के यूट्यूब पर 1 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं और आंकड़ों की मानें तो हर महीने इसे 10 लाख से ज्यादा लोग देखते हैं. यह खासतौर पर उन 90 प्रतिशत उम्मीदवारों के लिए बनाया गया है जो कोचिंग नहीं ले सकते और इस वजह से प्रतियोगिताओं में पीछे रह जाते हैं.

और पढ़े -   यूपी में पांच दिनों में दूसरा बड़ा रेल हादसा, डंपर से टकराई कैफियत एक्सप्रेस

सैनी का यह चैनल मुफ्त और कहीं भी ऐक्सेसिबल है, लेकिन अब रोमन गरीब बच्चों के लिए और दूसरे कॉम्पिटिटिव एग्जाम के लिए भी एक मुफ्त ऑनलाइन कोचिंग प्लेटफॉर्म तैयार करना चाहते हैं.

सैनी ने अपने चैनल ‘अनअकेडमी’ के बारे में बताया कि उनके इस चैनल से पढ़कर गरीब स्टूडेंट्स को भी हिस्ट्री, जिऑग्रफी, पॉलिटिक्‍स, आर्ट एंड कल्चर, इनवायरमेंट , इकोलॉजी, बायोडायवर्सिटी जैसे हर विषय की जानकारी 400  वीडियो द्वारा फ्री में मिलती है.

उन्होंने कहा कि हर साल करीब 6.5 लाख कैंडिडेट्स सिविल सर्विसेज एग्जाम देते हैं लेकिन केवल 1.5 लाख कैंडिडेट्स ही कोचिंग ले पाते हैं क्योंकि यह काफी महंगी होती है, इसलिए उन्होंने 2013 में अपने दोस्त गौरव मुंजाल के साथ मिलकर इस फ्री ऑनलाइन कोचिंग को शुरू किया.

और पढ़े -   डीएम की जांच रिपोर्ट में मिली थी क्लीन चिट, अब सीएम योगी के आदेश पर डॉ कफ़ील के खिलाफ एफआईआर

22 की उम्र में बने आईएएस

वैसे सैनी खुद काफी टैलेंटेड व्यक्ति हैं. जयपुर में पैदा हुए रोमन सैनी ने 16 साल की उम्र में ऐम्स का एंट्रेंस टेस्ट क्रैक किया था. साल 2013 में 22 साल की उम्र में सिविल सर्विसेज एग्जाम में 18वीं रैंक हासिल करने के बाद सैनी आईएएस अफसर बन गए. जिसके बाद उन्होंने ऑनलाइन कोचिंग प्लैटफॉर्म ‘अनअकैडमी’ की शुरूआत की. साभार: न्यूज़ 18

ये है आईएएस सैनी का यूट्यूब चैनल

 


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE