अधिकार्रियों द्वारा अपने काम में लापरवाही बरतना कोई नई बात नहीं हैं लेकिन कभी-कभी ये लापरवाही किसी की जान भी ले लेती हैं.

ऐसा ही एक मामला रतलाम में पेश आया. दरअसल सैलाना के अंबेडकर नगर निवासी कमलेश, कुणाल, अंकित और विशाल की गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान ग्रिड तालाब में डूबने से मौत हो गई थी. इस हादसे के बाद परिजनों ने सीएमओ नगरपालिका जीवनराय माथुर को इसका जिम्मेदार बताया.

और पढ़े -   एक बार फिर से जातीय हिंसा की आग में दहला सहारनपुर, गोली लगने से एक की मौत 11 घायल

परिजनों ने आरोप लगाया कि सीएमओ जीवनराय माथुर ने तालाब पर किसी तरह की कोई भी सुरक्षा व्यवस्था नहीं की थी, जिसकी वजह से चारों युवक पानी में डूब गए.

इसके बाद गुस्साई भीड़ ने सीएमओ को बुरी तरह से पीटा. बचते-बचाते उन्होंने थाने में जाकर शरण ली. लेकिन पिटाई की वजह से उनकी दोनों टाँगे टूट गई. मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर बी. चंद्रशेखर ने जीवनराय माथुर से सीएमओ का पदभार वापस ले लिया

और पढ़े -   असम: आतंकियों को आर्थिक मदद देने पर बीजेपी नेता सहित 2 को उम्रकैद की सज़ा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE