उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को अपनी पत्नी की हत्या के आरोपी विधायक अमनमणि त्रिपाठी के साथ ने केवल मंच साझा किया बल्कि उसे आशीर्वाद भी दिया.

गोरखपुर में एक कार्यक्रम के दौरान अपनी पत्नी सारा की हत्या के आरोपी नौतनवा सीट से निर्दलीय विधायक अमनमणि के साथ मंच पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी दिखाई दिए. अमनमणि पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी के बेटे हैं. अमरमणि कवयित्री मधुमिता शुक्ला हत्याकांड मामले में इस वक्त उम्रकैद की सजा काट रहा है.

और पढ़े -   मदरसे के वाटर टैंक में मिलाया ज़हर, शहर की फ़िज़ा बिगाड़ने की साज़िश

सीएम योगी के साथ मंच साझा करने को लेकर अमनमणि ने कहा, ‘महाराज जी (योगी आदित्यनाथ) हमारे अभिभावक हैं. वह जो भी आदेश देंगे, मैं करूंगा. जो उनका आदेश होगा, वही अंतिम होगा.’ इस पुरे घटनाक्रम को लेकर बीजेपी विपक्ष के निशाने पर हैं.

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अशोक सिंह ने इस बारे में कहा, ‘दोहरा चरित्र तो भाजपा की पहचान है. अपनी पत्नी की हत्या के आरोपी का मुख्यमंत्री के साथ मंच साझा करना, वाकई बेहद शर्मनाक है.’

और पढ़े -   गांधी जिस अंतिम आदमी की बात करते थे वह आज भी उतना ही जूझ रहा है

वहीँ सपा के प्रांतीय प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने इस घटनाक्रम पर कहा कि यह योगी की कथनी और करनी में स्पष्ट अंतर को दिखाता है. प्रदेश की कानून-व्यवस्था खराब है. दुर्भाग्य की बात यह है कि खुद भाजपा के सांसद, विधायक और नेता ही कानून तोड़ रहे हैं. प्रदेश में कानून नाम की कोई चीज नहीं रह गई है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE