pin

तिरूवनंतपुरम: केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन अपनी पूरी कैबिनेट के साथ आरबीआई कार्यालय के सामने धरना दिया. इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार पर राज्य में सहकारी बैंकिंग क्षेत्र को राजनीतिक षडयंत्र के तहत नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया.

विजयन ने कहा कि ‘‘एहतियाती उपाय किए बिना’’ एक हजार रुपये और 500 रुपये के नोटों को बंद कर दिया गया, जिसके चलते मौजूदा ‘‘संकट’’ पैदा हुआ और लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार के कदम को ‘‘राजनीतिक साजिश’’ करार देते हुए भाजपा के उस आरोप को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि सहकारी समितियां ‘‘कालाधन का अड्डा’’ हैं.

उन्होंने कहा कि प्रचलन में जो नोट हैं उनका करीब 84 से 86 फीसदी हिस्सा उन नोटों का है जिन्हें बंद कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि इन्हें अचानक बंद किए जाने से ही ‘‘मौजूदा संकट’’ पैदा हुआ.

उन्होंने कहा, ‘‘एक अनुभवी प्रशासक का यह उचित फैसला नहीं है.’’ विजयन ने कहा कि सहकारी क्षेत्र को पैसे जमा करने और एक हजार रूपये और 500 रूपये के नोट को बदलने की अनुमति नहीं दी जा रही जिसके कारण ‘‘गहरा संकट’’ पैदा हो गया है और उन्होंने इसे भाजपा के ‘‘दुष्प्रचार’’ का नतीजा बताया.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें