बिजनौर के पेदा गांव में मुस्लिम लड़कीयों के साथ हुई छेड़छाड़ के बाद तीन लोगों की हत्या के मामले में एक नया खुलासा हुआ हैं. गोलीबारी से पहले पेद्दा के नजदीक गोकलपुर गांव के प्रधान पति अनीस अहमद (38) ने पुलिस कंट्रोल रूम, स्‍थानीय विधायक, डीएम समेत जिला प्रशासन के वरिष्‍ठ अधिकारियों को 12 बार फोन कर मदद मांगी थी. लेकिन किसी ने कोई जवाब नहीं दिया.

अनीस के मुताबिक़ उन्होंने ये फोन उस वक्त किया था जब हथियारों से लैस करीब 100 जाट गाँव में पहुंच रहे थे. इस दौरान वे मौका ए वारदात पर मौजूद थे और मदद के लिए स्‍थानीय विधायक, डीएम समेत जिला प्रशासन के वरिष्‍ठ अधिकारियों को फोन कर रहे थे.

फोन करने के आधे घंटे बाद बंदूकधारी जाटों ने निहत्थे मुस्लिम परिवार पर गोलीबारी शुरू कर दी. जिसमे एक महिला समेत चार युवकों की जान चली गई. मारे गए तीनों युवक एक परिवार से थे. इनके नाम अनीस, सरताज और एहसान हैं.  इस हिंसक झड़प में 50 राउंड से ज्यादा फायरिंग हुई.

बिजनौर पुलिस के मुताबिक थाना कोतवाली क्षेत्र के नजीबाबाद रोड के पैदा गांव में मुस्लिम समुदाय की कुछ लड़कियां स्कूल जा रही थीं, तभी रास्ते में जाट बिरादरी के कुछ युवकों ने उनके साथ छेड़छाड़ की.

इस घटना की शिकायत एक लड़की ने अपने घर पर की. लड़की के नाराज परिजन विरोध जताने के लिए लड़के के घर पहुंचे थे और मामला रफा-दफा हो गया था. लेकिन इसके बाद जाट समुदाय के लोगों ने लड़की पक्ष के घर जाकर जमकर गोलीबारी की जिसमें 4 लोगों की मौत घटनास्थल पर ही हो गई.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें