kolka

एशिया की सबसे पुरानी यूनिवर्सिटी का गोरव प्राप्त कोलकाता यूनिवर्सिटी में 159 वर्षों के इतिहास में पहली बार ‘इफ्तार पार्टी’ का आयोजन होने जा रहा हैं.

यूनिवर्सिटी में सरस्वती वंदना को छोड़कर बाकि सभी प्रकार के धार्मिक कार्यों पर प्रतिबन्ध हैं. लेकिन इस बार यूनिवर्सिटी ने अपने रुख में बदलाव करके इफ्तार कराने का एतिहासिक फैसला लिया है जिसका छात्रों से लेकर यूनिवर्सिटी स्टाफ ने स्वागत किया है.

और पढ़े -   अगर बच्चा चोरी की घटना थी तो मारने वाली हजारों की भीड़ में कोई मुस्लिम क्यों नहीं था ?

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सोगाता मरजयत ने रमज़ान के रोज़े को त्याग, समर्पण और भाईचारा संज्ञा देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय विभाग अरबी और फारसी के पूर्व छात्रों ने इस दावत का आयोजन किया है हम उसका स्वागत करते हैं. यह एक अच्छी पहल है. जहाँ इफ्तार का एक पहलू धार्मिक है वहीं इसका एक दूसरा सामाजिक पहलू भी है.

और पढ़े -   नरौदा पाटिया नरसंहार मामलें में गवाह ने कहा - दंगाईयों की भीड़ में बाबू बजरंगी को नहीं देखा था

यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार सोम बनर्जी ने इफ्तार पार्टी में शामिल होकर कहा कि इफ्तार पार्टी सामाजिक भाईचारा बढाने में मददगार है यूनिवर्सिटी सामाजिक भाईचारा बढाने वाले किसी भी मज़हब के उत्सव को अनुमति देगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE