फेसबुक पर विवादित पोस्ट से भडकी हिंसा में हुई युवक की मौत के बाद राजनीति शुरू हो गई है. भारतीय जनता पार्टी ने मारे गए युवक को अपनी पार्टी का कार्यकर्त्ता करार दिया है. तो वहीँ उसके परिवार ने बीजेपी के इस दावे को झूठा करार दिया हैं.

हाल ही में बीजेपी राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि संप्रादायिक हिंसा में हमने हमारा एक कार्यकर्ता खो दिया है। हम उसके परिवार से मिलने आए थे लेकिन कुछ लोगों ने हमे उनसे मिलने नहीं दिया.

और पढ़े -   बीजेपी की और से मेरे पिता भी हो प्रत्याशी तो भी वोट मत देना: हार्दिक पटेल

वहीँ बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि पुलिस की मौजूदगी में टीएमसी कार्यकर्ताओं ने हमारा रास्ता रोका. हमारे घायल कार्यकर्ता को भीड़ द्वारा अस्पताल से बाहर खदेड़ा गया और उसकी पीट-पीटकर हत्या कर दी गई.

ऐसे में अब मृतक कार्तिक के परिजनों कहा कि उनका बेटा किसी भी राजनीतिक पार्टी से नहीं जुड़ा था. उन्होंने बताया कि कार्तिक तो बाजार से सब्ज़ी लेकर लौट रहा था. इस दौरान उस पर भीड़ ने धारदार हथियार से हमला किया. जिसके बाद इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों के समर्थन में लिखा, बीजेपी ने दिखाया मुस्लिम नेता को बाहर का रास्ता

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE