लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी की ऐतिहासिक जीत के गवाह बने बनारस में समाजवादी पार्टी ने बीजेपी प्रत्याशी को जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में तगड़ी शिकस्त दी है। अध्यक्ष पद पर एसपी की अपराजिता सोनकर ने बीजेपी कैंडीडेट अमित सोनकर को 13 वोटों से हरा दिया। गुरुवार को हुए मतदान में सभी 48 जिला पंचायत सदस्यों ने वोट डाले। इनमें से एसपी प्रत्याशी को 30 और बीजेपी प्रत्याशी को 17 वोट मिले, जबकि एक वोट अवैध रहा।

और पढ़े -   मध्यप्रदेश में दबंगों ने की दलित महिला की लाठियों से पीट-पीट कर हत्या

इसी बनारस से 2014 में पीएम मोदी ने आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल को 3 लाख 75 हजार वोटों से हराया था, लेकिन उसके बाद हुए स्थानीय स्तर के चुनावों में बीजेपी जीत से दूर ही रही है। रोहनिया उप-चुनाव में बीजेपी और अपना दल ने मिलकर अपना कैंडीडेट उतारा था, लेकिन वह सीट बीजेपी के हाथ से निकलकर एसपी उम्मीदवार महेंद्र पटेल के खाते में चली गई।

इससे पहले काशी में पीएम मोदी द्वारा गोद लिए गांव जयापुर से भी बीजेपी समर्थित जिला पंचायत सदस्य का उम्मीदवार चुनाव हार गया था।

और पढ़े -   कांवड़ियों का बवाल: पुलिस चौकी को किया आग के हवाले, राहगीरों से की मारपीट

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए बीजेपी ने इसलिए भी अमित सोनकर पर दांव चला था क्योंकि अमित को चंदौली से विधायक और माफिया डॉन बृजेश सिंह के भतीजे सुशील सिंह का करीबी माना जाता है। हालांकि यह भी काम न आया और अमित को एसपी प्रत्याशी से हार का सामना करना पड़ा।

सुबह 11 बजे से 3 बजे तक चले मतदान में सभी 48 पंचायत सदस्यों ने वोट डाले। दोनों प्रत्याशियों की मौजूदगी में वोटों की गिनती शुरू हुई। एसपी अपनी जीत को लेकर किस कदर आश्वस्त थी इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि एसपी के जिलाध्यक्ष सतीश फौजी ने 11 बजे चुनाव शुरू होने के बाद ही घोषणा कर दी थी कि उनकी पार्टी को 30 सदस्यों का समर्थन हासिल है, जो कि अंत में सच निकला।

और पढ़े -   हरियाणा- मस्जिद में पहुंचकर सिख बोले, हम है आपके साथ

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE