एक साल पहले जिस भाजपा सांसद की छात्र और अध्यापक एएमयू में एंट्री का विरोध कर रहे थे, अब वही छात्र और टीचर उनका सम्मान करेंगे। बिजनौर से भाजपा सांसद कुंवर भारतेंद्र सिंह को पिछले साल यूनिवर्सिटी की एएमयू कोर्ट के लिए नॉमिनेट किया गया था। उनकी नियुक्ति का यूनिवर्सिटी के छात्रों और अध्यापकों ने काफी विरोध किया था। यह विरोध उनका 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों में नाम आने पर किया गया था। हालांकि, उस वक्त सिंह ने विवाद को टालते हुए एएमयू नहीं आने का फैसला किया था।

अब छात्रों ने एएमयू को केंद्र सरकार द्वारा मदद दिलाने की कोशिश करने सिंह का सम्मान करने का फैसला किया है। सर सैयद अल्पसंख्यक फाउंडेशन के एक सदस्य का कहना है कि जिस तरह से उन्होंने हमारा साथ दिया है, वह सराहनीय है। हमने उन्हें सम्मानित करने का फैसला किया है। एएमयू कोर्ट के कई सदस्य हैं, लेकिन वे अलग खड़े होकर हमेशा हमारे साथ रहे।

इस पर सिंह ने का कहना है कि छात्रों ने मुझे सम्मान समारोह के बारे में अवगत कराया। मैं खुश हूं कि छात्रों ने मेरा नजरिया समझा है। मैं मानता हूं कि अगर कोई बड़ा दिल रखता है और लक्ष्य साफ हो तो सारी चीजें स्पष्ट हो जाती हैं। मुजफ्फरनगर दंगों में नाम आने पर छात्रों के विरोध पर उन्होंने कहा कि झूठे मामले दर्ज कराने का ट्रेंड चल गया है। मेरे दादा और पिता भी राजनीति में रहे हैं। मुझे दुख है कि इनमें से केवल मुझ पर ही केस दर्ज हुआ है।

सिंह छात्रों के एक प्रतिनिधि मंडल को एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी से मिलाने ले गए थे। इस मुलाकात के बाद मानव संसाधन मंत्रालय एएमयू के किशनगंज सेंटर के लिए 134 करोड़ रुपए जारी करने के लिए राजी हो गया था। सिंह ने एएमयू के वाइस चांसलर की मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी से मुलाकात करवाई थी। (Jansatta)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें