#OddEven – नई दिल्‍ली में आम आदमी पार्टी की सरकार के #OddEven फार्मूले को राजस्‍थान की भाजपा सरकार भी अपना सकती है.

जयपुर में बढ़ते प्रदू‍षण के स्‍तर को देखते हुए राजस्‍थान सरकार का परिवहन विभाग इस फार्मूले को लागू करने की योजना बना रहा है. हालांकि नियम दिल्‍ली से कुछ अलग हो सकते है.  ऐसे में  प्रदूषण में कमी लाने के लिए दिल्ली में लागू ऑड-ईवन फार्मूला राजस्‍थान में भी लागू हो सकता है.

जयपुर की हवा में भी है जहर

राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की मानें तो यहां सामान्य हवा की तुलना में पांच गुना से भी अधिक ‘पार्टीकुलेट मैटर’ (पीएम) यानि जहरीली तत्व घुले हैं. अर्थात् जयपुर का हाल भी दिल्ली जैसा हो गया है.

और पढ़े -   अगर बच्चा चोरी की घटना थी तो मारने वाली हजारों की भीड़ में कोई मुस्लिम क्यों नहीं था ?

राजस्‍थान का सबसे प्रदूषित शहर

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से एकत्रित वायु प्रदूषण के आंकड़ों के अनुसार राजस्थान के पांच शहर जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, कोटा और अलवर में सर्वाधिक प्रदूषण जयपुर में है. बोर्ड की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक जयपुर के बाद दूसरे स्थान पर उदयपुर में वायु प्रदूषण पाया गया है. जबकि अलवर तीसरे स्थान पर है. इस मामले में कोटा और जोधपुर अन्य शहरों की तुलना में कम प्रदूषण वाले हैं.

और पढ़े -   बिहार: रितुराज सिंह ने लगाए थे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे, लोगों ने जमकर धुना

परिवहन विभाग बना रहा है प्‍लान

राजस्‍थान का परिवहन विभाग ऑड ईवन फामूलें को जयपुर में लागू करने की संभावनाओं पर मंथन कर रहा है. जयपुर में दुपहिया वाहन चालकों को इस दायरे में लाया जा सकता है. परिवहन विभाग इस संबंध में प्रस्ताव सरकार को भेजने की तैयारी कर रहा है. मीडिया रिपोर्टस के अनुसार फार्मूला और पॉलिसी पर अंतिम फैसला सरकार के स्तर पर होगा. पॉल्यूशन कंट्रोल के लिए पायलट प्रोजेक्ट जयपुर से शुरू हो सकता है.

और पढ़े -   असम: आतंकियों को आर्थिक मदद देने पर बीजेपी नेता सहित 2 को उम्रकैद की सज़ा

8 साल पुराने वाहन हो सकते है बंद

जयपुर में पॉल्युशन नियंत्रण के लिए 8 साल पुराने कॉमर्शियल वाहनों पर रोक लगाने की तैयारी है.  वहीं #OddEven फार्मूला दिल्ली में कॉमर्शियल और नॉन कॉमर्शियल दोनों तरह के वाहनों पर लागू है. जयपुर में इसे पहले नॉन कॉमर्शियल कैटेगरी पर लागू किया जा सकता है. टू व्हीलर्स को भी दायरे में लाया जा सकता है. पब्लिक ट्रांसपोर्ट में चलने वाले वाहनों जैसे बसें, ऑटो रिक्शा, मैजिक, टैक्सी कार आदि को मुक्त रखा जा सकता है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE