bij

बिजनौर हत्याकांड में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े एक संगठन का हाथ सामने आया हैं. इस मामलें में पुलिस ने संघ से जुड़े वकीलों के संगठन अधिवक्ता संघ के ज़िला अध्यक्षकी गिरफ्तारी का प्रयास कियाजा रहा हैं. याद रहें कि अधिवक्ता संघ आरएसएस की एक इकाई है.

जानकारी के मुताबिक पुलिस ने इस मामले में वकील एेश्वर्य चौधरी को मुलजिम बनाया हैं साथ ही उसके गनर की तलाश में कई जगह छापेमारी कर रही है. यूपी पुलिस के एडीजी दलजीत चौधरी ने कहा है कि वकील एेश्वर्य को इस केस में मुलज़िम बनाया गया है. उन्होंने अपने गनर के साथ हिंसक भीड़ का नेतृत्व किया है.

और पढ़े -   घर से 25 इंजीनियरिंग छात्रों को परीक्षा दिलवाते हुए गिरफ्तार हुआ शिवसेना का पार्षद

दलजीत चौधरी के अनुसार मौके से जुटाई गई तस्वीरों में भी एेश्वर्य सिंह और उनके गनर मौजूद हैं. गिरफ़्तार मुलज़िमों के बयान और मौके से जुटाए गए सबूतों से उनकी भूमिका पता चलती है. इस मामले में गिरफ्तार 6 मुलजिमों ने पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में यह खुलासा किया है कि एेश्वर्य ने पेड़ा गांव में रहने वाले मुसलमानों पर गोलीबारी करवाने के मकसद से संसार सिंह और उनके समर्थकों को उकसाया था.

और पढ़े -   योगीराज में अपराधियों के हौसले बुलंद, बसपा नेता को घर में घुसकर मारी गोली

गौरतलब रहें कि पैदा गांव में मुस्लिम समुदाय की कुछ लड़कियां स्कूल जा रही थीं, तभी रास्ते में जाट बिरादरी के कुछ युवकों ने उनके साथ छेड़छाड़ की. इस घटना की शिकायत एक लड़की ने अपने घर पर की. लड़की के नाराज परिजन विरोध जताने के लिए लड़के के घर पहुंचे थे और मामला रफा-दफा हो गया था. लेकिन इसके बाद जाट समुदाय के लोगों ने लड़की पक्ष के घर जाकर जमकर गोलीबारी की जिसमें 4 लोगों की मौत घटनास्थल पर ही हो गई. मारे गए तीनों युवक एक परिवार से थे. इनके नाम अनीस, सरताज और एहसान हैं.

और पढ़े -   नरौदा पाटिया नरसंहार मामलें में गवाह ने कहा - दंगाईयों की भीड़ में बाबू बजरंगी को नहीं देखा था

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE