beg

बिहार के बेगूसराय में रामनवमी और मुहर्रम को ध्यान में रखते हुए दुर्गा प्रतिमा विसर्जन जुलूस को प्रशासन ने मुस्लिम बस्ती से निकालने पर पाबंदी लगा दी थी. जिसके बाद खुद मुस्लिम समुदाय ने आगे बढकर दुर्गा प्रतिमा विसर्जन जुलूस को बस्ती से निकालने की गुजारिश की. इतना ही नहीं मुसलमानों ने शर्बत-पानी के साथ इस्तकबाल जुलूस का इस्तकबाल भी किया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार पुरानी दुर्गा स्थान गढ़हरा की प्रतिमा को बुधवार को विसर्जन के दौरान स्थानीय पुलिस प्रशासन ने घनी आबादी वाले मुस्लिम बस्ती से ले जाने पर प्रतिबंध लगा दिया.  लेकिन यह सूचना जब मुस्लिम बस्ती में पहुंची तो मो. सलाउद्दीन की अगुवाई में दर्जनों मुसलमान युवकों ने दुर्गा पूजा समिति से जुलूस को बस्ती से निकालने की गुजारिश की.

पूजा समिति ने भी मुस्लिमों की इस गुजारिश को कबूल कर लिया. जब प्रतिमा मुस्लिम बस्ती से गुजरने लगी तो रहबर यूथ सोसाइटी आशिफपुर गढ़हरा द्वारा विसर्जन में शामिल सैकड़ों लोगों के लिए शर्बत-पानी का भी इंतजाम किया गया था.

इस धार्मिक सद्भाव  और एकता ने सांप्रदायिक  सोच को तमाचा लगाया है. और पुलिस प्रशासन को नये सिरे से सोचने को मजबूर कर दिया है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें