simi

भोपाल सेंट्रल जेल से कथित फरारी और फिर मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा कथित तौर पर एनकाउंटर में मारे गए आठ विचाराधीन कैदियों में से पांच को खंडवा स्थित कब्रस्तान में दफनाया गया था. सभी विचाराधीन कैदियों की कब्रों पर लगे शिलालेख पर पुलिस ने ‘शहीद’ लिखे शब्द को हटवा दिया हैं.

दरअसल कब्रों पर लगे शिलालेख पर कुरान की आयत के साथ उन्हें शहीद बताते हुए उनका नाम लिखा हुआ था. ये सभी शिलालेख काले रंग के मार्बल में हैं. पुलिस ने शिलालेख पर लिखे शहीद शब्द को कलर पेंट करवा कर छुपा दिया. 31 अक्टूबर को भोपाल से 10 KM दूर हुए कथित एनकाउंटर में मारे गये आठ विचाराधीन कैदियों में से अकील खिलजी, महबूब, अमजद, जाकिर और सलीक को दफनाया गया था.

jin

दरअसल सोशल मीडिया पर बुधवार को पांचों विचाराधीन कैदियों की कब्र पर लगे शिलालेखों का वीडियो वायरल हो रहा था. जिसके बाद पुलिस ने तत्काल आदेश से रात में आनन-फानन में पेंट कराकर शहीद शब्द को हटा दिया. खंडवा के पुलिस अधीक्षक एमएस सिकरवार ने गुरुवार को आईएएनएस से बातचीत में पेंट कराकर शहीद शब्द को हटाने की बात को स्वीकारा हैं.

31 अक्टूबर को हुए इस एनकाउंटर पर सवाल उठ रहे हैं. परिजन पहले ही इस पूरी कारवाई को फर्जी बता चुके हैं. परिजनों के अनुसार सभी विचाराधीन बेगुनाह थे और जल्द ही रिहा होने वाले थे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें