यूपी के देवरिया के लोहारीबारी गांव में बारातियों को डीजे साथ लाने उस पर हुडदंग मचाना महंगा पड़ गया. बारातियों की इस हरकत के चलते स्थानीय काजी और मौलवियों ने दूल्हें का निकाह पढ़ाने से इनकार कर दिया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, लोहारीबारी गांव में 14 मई को आस मोहम्मद के घर उनकी बेटी गुड्डी खातून की शादी थी. जिसकी बारात बनकटा क्षेत्र के अहिरौली बघेल से आई हुई थी. बाराती अपने साथ डीजे भी लाये थे. जैसे ही बारात डीजे पर हुडदंग करते हुए निकाह के लिए पहुंची तो मौलवी नाराज हो गए. वो बिना निकाह कराए ही वहां से चले गए.

दुल्हन के पिता आस मोहम्मद ने बताया कि उन्होंने बारात में गाजा-बाजा होने की जानकारी मौलवियों को दी थी. मौलवी बारात में नाच-गाना देखकर नाराज होकर चले गए. उन्होंने सवाल उठाया कि जब दहेज पर कोई रोक नहीं लगाई जा रही है तो शादी जैसे ख़ुशी के मौके पर गाजा-बाजा रोक क्यों?

वहीँ मौलवी रियाजुद्दीन ने कहा कि रविवार को आस मोहम्मद के घर बारात आई थी. बाराती ऑर्केस्ट्रा साथ लाए थे जिसकी वजह से रविवार को निकाह नहीं हुआ. निकाह कराने में विलंब की सजा इसीलिए दी गई कि समाज में सुधार आए और लोग समझें कि इस तरह के काम करना सही नहीं है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE