बुलंदशहर  सुप्रीम कोर्ट में अलीगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी को अल्पसंख्यक संस्थान मानने से केन्द्र के इंकार पर अखिलेश सरकार में नगर विकास मंत्री आजम खान ने मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को व्यंगात्मक लहजे में ‘सुंदर महिला’ कहकर संबोधित करते हुए कहा कि एएमयू, जामिया और जौहर यूनीवर्सिटी उन्हें नहीं देंगे.

आजम बोले, आजम ने कहा, ‘हैं 10वीं पास, लेकिन 12वीं फेल ये मंत्री साहिबा मुसलमानों से उनके विश्वविद्यालय छीनने की साजिश रच रही हैं. उन्हें एएमयू के बारे में ऐसी राय रखने और उसमें दखल देने से पहले सोचना चाहिए. इस मामले में जरूरी है कि प्रधानमंत्री हस्तक्षेप करें.’

और पढ़े -   हिंसा के बाद योगी सरकार आई हरकत में, आला आधिकारी सस्पेंड, धारा 144 के साथ इंटरनेट पर रोक

आजम खान ने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी किसी की खैरात नहीं है. ये लाखों-करोड़ों मुसलमानों के जज्बातों की कब्रों पर तामीर है. इसे बर्बाद नहीं होने देंगे. ये चुनौती नही है, लेकिन चुनौती जैसा जरूर है.

उन्होंने कहा, ‘हम एएमयू नहीं देंगे, हम जामिया नहीं देंगे. बीजेपी और आरएसएस अच्छी तरह से समझ लें हम जौहर यूनीवर्सिटी भी नहीं देंगे. हिन्दुस्तान आरएसएस के कानून से नहीं, संविधान से चलेगा. अपने अक्लियतों पर कायम रहने का हक संविधान से सबको हासिल है. तालीमी इदारे कायम करने का हक भी संविधान हमें देता है.’

और पढ़े -   प्रशासन का दलितों को आदेश - सीएम योगी से मिलना है तो नहाकर, पाउडर-सेंट लगाकर आओ

रामपुर वालों को जया रदा का एक ठुमका भी नसीब नहीं: आजम ने जयाप्रदा को भी नहीं बख्शा और अभद्र टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि रामपुर में आयी आम्रपाली की नाचने वाली भी एमपी बन गई थी. दो बार एमपी बनी. जनता की गड़गड़ाती तालियों के बीच आजम ने कहा कि पूरी दुनिया ने उनका डांस देखा, लेकिन हम कमनसीब रामपुर वाले उनका एक ठुमका भी कभी नही देख पाये.

साक्षी महाराज को कहा बलात्कारी: खुर्जा सिटी में अपने पुराने दोस्त के प्लेस्कूल का उद्घाटन करने आये आजम ने कहा कि अपनी कौम को तालीम की जरूरत है. सब लोग अच्छी तालीम हासिल करें. राजनीति में अच्छे लोग आयें.

और पढ़े -   मोदी सरकार को किसी के खानपान पर किसी भी तरह की रोक लगाने का हक नहीं: पुडुचेरी सीएम

उन्होंने साक्षी महाराज पर उनकी शिष्या के साथ बलात्कार का आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी ने सुप्रीमकोर्ट से जमानत पाये बलात्कारी को लोकसभा चुनाव में टिकट दिया और उसे एमपी बना दिया.

दिल्ली के इमाम साहब को ताकीद करते हुए आजम ने कहा कि वह नेताओं के यहां से ब्रीफकेस लाना छोड़ दें. वह इमामत करें और अगर सियासत का इतना ही शौक है तो जामा मस्जिद छोड़कर अपनी ननिहाल रामपुर से हमारे सामने पर्चा भरें. साभार: न्यूज़ 18


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE