नई दिल्ली। बिहार के मुज़फ्फ़रपुर शहर में जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के समर्थन और दूसरे मुद्दों पर हुए एक प्रोग्राम में मारपीट हो गई है। दर्जनभर से ज़्यादा लोगों के ज़ख्मी हैं। मुज़फ्फ़रपुर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। शुरुआती रिपोर्ट्स में भाजयुमो, एबीवीपी का नाम आ रहा है।

रविवार को मुज़फ़्फ़रपुर शहर के जुब्बा साहनी ऑडिटोरियम में ‘मैं जेएनयू बोल रहा हूं’ प्रोग्राम रखा गया था। इसमें जेएनयूएसयू के पूर्व अध्यक्ष आशुतोष कुमार, एपवा सचिव कविता कृष्णन, डीयू प्रोफेसर ईश मिश्रा समेत कई लोगों को अपनी बात रखनी थी। लेकिन आयोजक जब ऑडिटोरियम पहुंचे, तो उसका दरवाज़ा बंद मिला और प्रोग्राम कैंसिल करने की सूचना चिपकी हुई थी।

इसके बाद आयोजकों ने तय किया कि प्रोग्राम ऑडिटोरियम के बाहर ही किया जाएगा लेकिन तभी भारतीय जनता युवा मोर्चा और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध शुरू कर दिया। बड़ी संख्या में इनके कार्यकर्ता मौके पर इकट्ठा हो गए।
आयोजकों के मुताबिक़ इस दौरान भाजयुमो और एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने पथराव किया, जिसमें दो लोगों को सिर पर गंभीर चोटें लगीं। इनके अलावा दस अन्य लोग भी ज़ख्मी हुए।
बताया जाता है कि जब कविता कृष्णन बोलने लगीं तो लोगों ने पत्थर फेंकना शुरू कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने माइक भी छीन लिया।
वहीं भाजयुमो के ज़िला महामंत्री रवि रंजन शुक्ला ने पथराव की बात से इनकार किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि आयोजकों ने ही भाजयुमो और एबीवीपी कार्यकर्ताओं पर हमले किए जिसमें उनके क़रीब आधा दर्जन कार्यकर्ता ज़ख़्मी हो गए।
उन्होंने कहा, ‘शहर में अगर राष्ट्रविरोधी तत्वों के समर्थन में कार्यक्रम होता, तो मुज़फ्फ़रपुर की धरती कलंकित हो जाती। ऐसे में हम राष्ट्रवादियों ने मुज़फ़्फ़रपुर को कलंकित होने से बचाने के लिए यह विरोध किया। (liveindiahindi)
और पढ़े -   महाराष्ट्र के किसानों ने गलत पूर्वानुमान को लेकर मौसम विभाग पर ठोका मुकदमा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE