बिहार के गया में तंजीम-ए-इंसाफ के के बेनर तले बुधवार को अंबेडकर पार्क परिसर में अल्पसंख्यक और दलित समुदाय के खिलाफ हो रहें अत्याचार के खिलाफ एक दिवसीय धरना दिया गया.

धरनास्थल से अल्पसंख्यकों के साथ भेद-भाव न करने की मांग करते हुए कहा गया कि जस्टिस राजेन्द्र सच्चर व जस्टिस रंगनाथ मिश्रा आयोग की रिपोर्ट को लागू किया जाए. अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम को नौकरशाहों के शिकंजे से मुक्त किया जाए.

और पढ़े -   डाक से भेजी गई लिखित तलाक को केरल की अदालत ने गैर इस्लामिक बताकर किया खारिज

बिहार मे भी केरल व पश्चिम बंगाल की तरह अल्पसंख्यकों को सरकारी नौकरियों एवं शिक्षण संस्थानों में आरक्षण दिया जाए. इसके अलावा देश भर में आंतकवाद व गौरक्षा के नाम पर अल्पसंख्यकों और दलितों पर हो रहें  जुल्म को बंद किया जाए.

धरनास्थल से नागरिकों को संबोधित करने वालों में मसउद मंजर, मो.शकील अहमद, जसीमउद्दीन खां, इकबाल हुसैन, मो.शहरूद्दीन, आशिफ जफर, अंकुश बग्गा, मो. मंसुर अंसारी, कारीशहाब उद्दीन, बशीर कादरी, फैजान अजीजी, रन्नू घोष, नंदकिशोर यादव सहित कई नेता शामिल थे.

और पढ़े -   केरल - आश्रम का स्वामी 6 सालों से कर रहा था दुष्कर्म, युवती ने प्राइवेट पार्ट काटकर लिया बदला

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE