महिला की कोख भरने का झांसा देकर दुष्कर्म करने के आरोप में उत्तराखंड सरकार में राज्य मंत्री रह चुके मौलाना मसूद मदनी को पुलिस ने दो महीने पहले गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. लेकिन इस मामलें में बड़ा खुलासा हुआ हैं.

सहारनपुर रेंज के डीआईजी जितेंद्र कुमार शाही ने आज पीटीआई-भाषा को दूरभाष पर बताया कि पुलिस की अब तक की जांच में महिला का नाम और पता गलत पाया गया है. डीआईजी के अनुसार महिला द्वारा मजिस्ट्रेट और पुलिस के समक्ष अपने बयान में जो नाम और पता दिया गया था वह गलत निकला. उन्होंने मामले में हनी ट्रैप की आशंका भी जताई.

और पढ़े -   पश्चिम बंगाल: निकाय चुनाव में चला ममता का जादू, निकली मोदी लहर की हवा

उन्होंने बताया कि महिला ने रेप की जो कहानी पुलिस को बताई थी वह भी फर्जी लग रही है. डीआईजी के अनुसार महिला के साथ रेप तो हुआ है लेकिन, रेप की जो वजह महिला ने पुलिस को बताई थी वह शायद गलत है.

पुलिस के अनुसार हरियाणा के जींद जिले की 25 साल की एक महिला ने देवबंद कोतवाली में गत 17 मार्च को बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई थी जिसके बाद देवबंद पुलिस ने पूर्व सांसद और मजलिस-ए-शूरा दारूल उलूम देवबंद के सदस्य असद मदनी के बेटे मसूद मदनी को उनके आवास से गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया. अदालत ने उन्हें जेल भेज दिया था.

और पढ़े -   मराठवाड़ा में रोज दो से तीन किसान कर रहे आत्महत्या: सरकारी रिपोर्ट

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE