कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह का पुलिस ने अंतिम संस्कार करा दिया है. आनंदपाल का अंतिम संस्कार कड़ी सुरक्षा के बीच किया गया. आनंदपाल के घर पर मानवाधिकार आयोग का नोटिस घर पर चस्पा देने के चार घंटे बाद ही दाह संस्कार कर दिया गया. हालांकि मानवाधिकार आयोग ने 24 घंटे के अंदर दाह संस्कार करना का समय दिया था.

अंतिम संस्कार को लेकर आनंदपाल की मां ने धमकी दी थी कि अगर बेटे के एनकाउंटर की जांच सीबीआई से नहीं कराई गई और जबरन दाह संस्कार कराया तो बेटे के साथ वो भी जलेंगी. इस वजह से पुलिस ने पूरे मामले को गुपचुप तरीके से अंजाम दिया. अंतिम संस्कार के लिए पुलिस ने आनंदपाल के बेटे को साथ चलने को कहा मगर बेटा नहीं माना तो पुलिस जबरन उसे साथ ले गई. पुलिस ने गांव के पांच लोगों को भी साथ लिया और उन्हें अंतिम संस्कार में ले आई. इसके अंतिम संस्कार की कार्रवाई पूरी की गई.

और पढ़े -   बड़ा खुलासा - बीजेपी नेता करता था अधिकारियों को स्कूली छात्राओं की सप्लाई

गौरतलब रहे कि आनंदपाल को लेकर वसुंधरा सरकार के खिलाफ पूरा राजपूत समुदाय भड़का हुआ है.  गुरुवार को प्रदर्शन कर रहे राजुपुतों ने सांवराद रेलवे स्टेशन को आग के हवाले कर दिया है. रेलवे स्टेशन के नजदीक बने 19 रेलवे क्वार्टरर्स को आग के हवाले कर दिया गया. इस दौरान पुलिस ने भीड़ को काबू करने के लिए फायरिंग की. इससे हरियाणा के रहने वाले लालचंद शर्मा की मौत हो गयी, जबकि जोधपुर के निवासी महेंद्र सिंह गोली लगने के चलते गंभीर रूप से घायल हुए हैं.

और पढ़े -   पीएम मोदी के वाराणसी दौरे का विरोध शुरू, BHU की छात्राओं मुंडन कर किया प्रदर्शन

पुलिस और आंदोलनकारियों के बीच झड़प में करीब 20 से भी ज्यादा लोग घायल बताए जाते हैं. इनमें से 10 घायलों को सवाई मान सिंह अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इस मामले में घायल तीन पुलिसकर्मियों को इलाज के लिए जयपुर लाया गया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE