राजस्थान पुलिस की नाक में दम करने वाला पांच लाख का इनामी कुख्यात अपराधी आनंदपाल पुलिस मुठभेड़ में मारा गया है. शनिवार रात करीब 11:25 बजे एसओजी ने उसे मुठभेड़ में मार गिराया.

सितंबर 2015 में नागौर की एक अदालत में पेशी के बाद वापस अजमेर जेल में भारी सुरक्षा बंदोबस्त के बीच से फरार हुआ था. जिसके बाद से वह फरार ही चल रहा था. मुठभेड़ के दौरान एसओजी के सीआई सूर्यवीर सिंह के हाथ में फ्रेक्चर आया, जबकि पुलिसकर्मी सोहन सिंह धर्मपाल की गोलियां लगने से घायल हो गए. सोहन की हालत गंभीर बताई जा रही है.

एसओजी ने आनंदपाल के दो भाइयों देवेंद्र उर्फ गुट्‌टू और विक्की को हरियाणा के सिरसा से गिरफ्तार किया था. पूछताछ में पता चला कि आनंदपाल मालासर में श्रवण सिंह नामक शख्स के घर पर छिपा हुआ है. डीजीपी मनोज भट्ट ने बताया कि पिछले डेढ़ महीने से एसओजी के आईजी दिनेश एमएन के सुपरविजन में एडिशनल एसपी संजीव भटनागर हरियाणा में डेरा डाले हुए थे.

इस दौरान संजीव भटनागर ने आनंदपाल के भाई विक्की देवेन्द्र को सिरसा से शाम छह बजे गिरफ्तार किया. इसके बाद एसओजी की एक टीम करण शर्मा की अगुआई में चूरू जिले के मालासर गांव में पहुंची. यहां आनंदपाल दो दिन पहले आया था.
एसओजी ने घेराबंदी कर आनंदपाल को पकड़ने की कोशिश की, लेकिन वह छत पर जाकर पुलिस पर फायरिंग करने लगा. एसओजी की जवाबी कार्रवाई में वह मारा गया.

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE