अलीगढ़ । एएमयू वाइस चांसलर जमीरउद्दीन शाह ने कहा है कि जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज की एक कैंटीन में भैंसे के गोश्त की बिरयानी की बिक्री हो रही है। जिस पर मेयर शकुंतला भारती अनर्गल आरोप लगाते हुए विवि की छवि को धूमिल करने और साम्प्रदायिक विद्वेष पैदा करने का प्रयास कर रही हैं।

zameeruddin-shah-AMU

वीसी ने कहा है कि विवि कभी ऐसा कार्य नहीं करेगा, जिससे राष्ट्रीय भावनाएं आहत होती हों। वीसी ने बताया कि सांसद सतीश गौतम से भी बात की थी, जिस पर उन्होंने सहमति व्यक्त की।

आपको बता दें कि व्हाट्सऐप पर किसी शरारती व्यक्ति द्वारा एएमयू कैंटीन में गौ मांस परोसे जाने की अफवाह उड़ाते हुए एक सन्देश पोस्ट किया था । इस सन्देश को आधार बनाकर हिंदूवादी संगठनो और भाजपा कार्यकर्ताओं ने एएमयू को कटघरे में खड़ा करने की कोशिश की तथा इस मामले में मेयर शंकुन्तला भारती ने एसपी सिटी को तहरीर दी ।

मेयर जब तहरीर देने पहुंची तो काफी देर हुई बातचीत के बाद एसपी सिटी अंशुल गुप्ता का भी पारा चढ़ गया। जिसके चलते भाजपाइयों व हिन्दूवादी संगठनों से बहस तक हो गई। एसपी सिटी ने पूछ डाला कि आखिर क्या आधार है कि कैंटीन में बीफ बिरयानी बिक रही है। इस पर भाजपाइयों ने चैनल फुटेज का हवाला दिया।

बीफ की परिभाषा को लेकर विवाद :
इस दौरान भाजपाइयों व सीओ तृतीय के बीच बीफ की परिभाषा को लेकर नोकझोंक तक हो गई। मेयर शकुंतला भारती सहित भाजपाई व हिन्दूवादी नेता पुलिस लाइन स्थित एसएसपी कार्यालय पर पहुंचे। मेयर ने एसपी सिटी डॉ. अंशुल गुप्ता को तहरीर देते हुए आरोप लगाया कि एएमयू की मेडीकल कॉलेज की कैंटीन में कानून की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। कैंटीन में बोर्ड लगाकर बीफ बिरयानी बेची जा रही है जबकि देशभर में यह प्रतिबंधित है।

बीफ का मतलब समझने में भूल :
एएमयू के पीआरओ कह रहे हैं कि बीफ शब्द का अर्थ समझने में लोगों से भूल हुई है। मेयर ने कहा कि अगर इस पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया तो जिले की शांति व्यवस्था के भंग होने का अंदेशा है। वहीं इस मामले में कैंटीन से जुड़े लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए।

इस दौरान सीओ तृतीय राजीव कुमार सिंह ने कहा कि बीफ का मतलब बफैलो मीट से है जबकि लोग इसके अन्य मतलब निकाल रहे हैं जो कि गलत है। इस बात को लेकर मेयर और सीओ में नोकझोंक हो गई। मामले को शांत करते हुए एसपी सिटी ने कहा कि मामला सेन्ट्रल यूनीवर्सिटी से जुड़ा हुआ है। इस मामले की जांच करवाई जाएगी। (lokbharat)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें