jcb 30 08 2016

एंबुलेंस न मिलने के कारण कंधे पर अपनी पत्नी का शव रखकर 10 किलोमीटर पैदल चलने वाले दाना मांझी की तस्वीर ने भारत सहित दुनिया भर को हिला कर रख दिया. ऐसे में भी हमारे देश की सरकारें सबक नहीं सिख रही हैं.

एक के बाद एक नए मामलों में ऐसा ही एक और मामला उप्र के बलरामपुर में पेश आया. जहाँ करंट लगने से मृत बिहार के मजदूर सूरज के शव को एंबुलेंस न मिलने पर जेसीबी के डोंगा में रखकर लाया गया.

और पढ़े -   पीड़ित लड़की ने की उस जगह की तस्दीक, जहां स्वामी कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी ने किया था बलात्कार

प्राप्त जानकारी के अनुसार बिहार के वैशाली जिले के भगवानपुर निवासी 22 वर्षीय सूरज पुत्र प्रकाश अपने कुछ साथियों के साथ मजदूरी के लिए आया था. अन्य मजदूरों के साथ वह भी काम कर रहा था. इस दौरान उसे करंट लग गया। साथी मजदूर व ठेकेदार के मुंशी उसे सादुल्लाहनगर में एक निजी अस्पताल ले गए. यहां उसे मृत घोषित कर दिया गया.

और पढ़े -   मोदी सरकार ने दी हजारों चकमा और हजोंग शरणार्थियों को नागरिकता, जल उठा अरुणाचल प्रदेश

इसके बाद साथी मजदूरों ने शव ले जाने के लिए कोई और व्यवस्था नही होने से सूरज का शव जेसीबी मशीन के डोंगे में रखकार्य स्थल के पास चौबीसो बगिया ले गए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE