ratanl

अलाहाबाद यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर रतनलाल हंगलू अपने बयान से पलटते हुवे नजर आ रहे हैं। हंगलू ने पहले आरोप लगाया था कि स्मृति ईरानी उनके काम में दखलंदाजी करती हैं। उन्होंने धमकी देते हुवे कहा था कि अगर ऐसा आगे भी जारी रहा तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे।

लेकिन अब हंगलू ने राज्यसभा के सभापति को चिट्ठी लिखकर कहा है कि स्मृति ने कभी भी उनके काम में दखल नहीं दिया। उनकी बात का गलत मतलब निकाला जा रहा हैं। वीसी रतन लाल हंगलू ने नये सेशन से सभी इंट्रेंस एग्जाम सिर्फ आन लाइन ही कराए जाने का एलान किया था.

और पढ़े -   सप्ताह में एक बार स्कूलों और दफ्तरों में 'वंदे मातरम' बजना अनिवार्य: मद्रास हाईकोर्ट

लेकिन यूनिवर्सिटी में दाखिले की प्रक्रिया शुरू होते ही छात्रों ने इंट्रेंस एग्जाम को ऑफ लाइन कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन शुरू कर दिया.भदोही औऱ कौशाम्बी से बीजेपी सांसद समेत बीजेपी के कई दूसरे नेताओं ने छात्रों के आंदोलन का समर्थन कर इसकी शिकायत स्मृति ईरानी से की. स्मृति ईरानी ने वीसी के फैसले को पलटते हुए सभी इंट्रेंस एग्जाम में आफ लाइन का भी विकल्प दे दिया.

और पढ़े -   काशी से काबा के लिए हाजियों का पहला जत्‍था हुआ मुकद्दस सफर पर रवाना

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE