kashm pro

कश्मीर घाटी में सुरक्षा बल के जवानों के हाथों पिटाई से हुई एक लेक्चचर की मौत के बाद हालात बिगड़ गए हैं. इस घटना को लेकर सेना ने दुख जताया है और मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं.

लोगों का आरोप है कि आर्मी के लोगों ने उसे मारा है. यह लेक्चरर उन लोगों में से है जिन्हें आर्मी ने बुधवार (17 अगस्त) को हिरासत में लिया था. इस मामले पर जम्मू कश्मीर की सरकार ने आर्मी के कुछ लोगों पर केस भी दर्ज कर लिया है.

और पढ़े -   बिहार में बाढ़ बरपा रही कहर- अब तक गई 106 लोगों की जान, बढ़ सकता है आंकड़ा

यह मामला पुलवामा जिले की खेरू जगह का है. बुधवार को सेना के तलाशी अभियान के दौरान मंगू की अलावा करीब दो दर्जन युवक भी बुरी तरह से घायल हुए हैं. सुरक्षा बलों के हाथों मरने वाले लेक्चरर का नाम शब्बीर है. उसे सेना बुधवार को लेकर गई थी. लोगों का आरोप है कि शब्बीर और कुछ लोगों को लोहे की रॉड से मारा गया था और फिर सेना उन्हें लेकर चली गई थी. उसके बाद गुरुवार को हॉस्पिटल में उसकी डेड बॉडी लाई गई. वहीं जिन और लोगों को सेना लेकर गई थी उनके भी चोटें लगी थीं.

और पढ़े -   राष्ट्रगान ना गाने पर योगी सरकार करेगी मदरसों पर एनएसए के तहत कार्रवाई

अहमद मंगू की मौत के साथ ही मरने वालों की संख्या 65 तक पहुंच चुकी है. इस हालिया मौत ने घाटी में लोगों को गुस्से को और ज्यादा भड़का दिया है.  गुरुवार को उन्होंने सिविल सोसायटी के सदस्यों को भी घायलों से नहीं मिलने दिया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE