मुजफ्फरनगर के शेरपुर गांव में शुक्रवार को झूठी गौकशी की सुचना पर पुलिस कारवाई के बाद भडकी हिंसा मामले में 270 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. इस घटना में पांच पुलिसकर्मी सहित आठ लोग घायल हो गए थे.

दरअसल गौकशी की सुचना पर पुलिस ने छापेमारी की थी. हालांकि ये सुचना झूठी पाई गई थी. शुक्रवार शाम को शेरपुर के इस्लाम और हसरत के घर गोकशी किए जाने की सुचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची थी. इस दौरान पुलिस ने घर में बन रही आलू और गोभी की सब्जी तक को भी चेक किया. लेकिन कुछ नहीं मिला.

और पढ़े -   गौरक्षकों को ईद उल अजहा पर हुए कुर्बानी बकरों की तेरहवीं मनाना पड़ा महंगा

ग्रामीणों का आरोप है कि झूठी सूचना पर पुलिस ने ग्रामीणों के साथ अभद्रता की और मार पिटाई करते घरो में तोड़फोड़ भी की. ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि पुलिस की इस कार्रवाई में कई बच्चे और युवा घायल हो गए. रोजा इफ्तार के समय हुई इस कारवाई पर ग्रामीण भड़क गए. ग्रामीणों ने बताया कि पुलिस ने फायरिंग की और उसमें 5 लोग घायल हो गए जिसमें 11-12 साल का एक बच्चा भी शामिल है.

और पढ़े -   मदरसे के वाटर टैंक में मिलाया ज़हर, शहर की फ़िज़ा बिगाड़ने की साज़िश

पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार सिंह ने बताया कि ग्राम प्रधान सहित 270 लोग पर दंगा करने, गैर कानूनी रूप से जमा होने, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, हत्या की कोशिश और संबंधित अपराधों के लिए मामला दर्ज किया गया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE