file_2321267f

उत्तर प्रदेश के फिरोज़ाबाद में एक अस्पताल में कथित रूप से मरीज का इलाज बंद करने की वजह से मरीज की मौत होने का मामला पेश आया हैं. परिजनों का आरोप हैं कि 500/1000 के नोट होने की वजह से इलाज बंद कर दिया गया. जिसकी वजह से मरीज की मौत हो गई.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, बुधवार रात को आगरा के एफएच मेडिकल कॉलेज में भूत नगरिया गांव के निवासी रामवीर को एडमिट कराया गया था. हालत गंभीर होने के कारण रामवीर को आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखा गया था. इसी दौरान हॉस्पिटल वालो ने रामवीर के परिवार से 10,000 रुपये जमा करवाने के लिए कहा.

परिजनों के अनुसार इस दौरान पास उनके पास केवल 4,000 रुपये थे. और वह भी 500 और 1,000 रुपये के नोट में थे. जिन्हें अस्पताल वालो ने लेने से इनकार कर दिया. जबकि उन्होंने अगले दिन पूरा बिल चुकता करने की बात कही.  आखिर में बार-बार अनुरोध करने पर भी अस्पताल वालों ने उनकी नहीं सुनी, और वेंटिलेटर हटा लिया गया, जिससे रामवीर की मौत हो गई.

एफएच मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन डॉ रिहान फारुख ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि मरीज को लेकर कुछ लोग अस्पताल आए थे, जो नशे में थे, और मरीज़ की मौत उपचार के दौरान हुई.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें