mahant-09-09-2016-1473423236_storyimage

1992 में बाबरी मस्जिद की शहादत के बाद किसान यात्रा के चौथे दिन यानि शुक्रवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अयोध्या पहुँच कर हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा-अर्चना की.

हनुमानगढ़ी में दर्शन के बाद राहुल ने करीब आधे घंटे तक महंत ज्ञानदास से मुलाकात की महंत ज्ञानदास ने बताया कि राहुल से राम मंदिर के सुलह समझौते को लेकर कोई बातचीत नहीं की गई, क्योंकि यह पक्षकारों के आपस का मामला है, लेकिन राहुल गांधी ने भरोसा दिया है कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला होगा, कांग्रेस उसके साथ खड़ी रहेगी.

गौरतलब रहें कि 1990 में अपनी ‘सद्भावना यात्रा’ के दौरान राहुल गांधी के पिता राजीव गांधी भी वहां दर्शन के लिए गए थे लेकिन देर हो जाने की वजह से उन्हें दर्शन नहीं हो पाए थे.

शुक्रवार शाम को राहुल गाँधी का किचौचा शरीफ दरगाह भी जाने का प्रोग्राम हैं.इस दौरान उनके साथ प्रदेश कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं के अलावा कांग्रेस महासिचव गुलाम नबी आजाद उनके साथ मौजूद होंगे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें