प्रदेश की पूर्व अखिलेश सरकार को अपराधियों का संरक्षक करार देकर कानून व्यवस्था चाक-चोबंध करने के वादे के साथ सत्ता में आई मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बनी बीजेपी सरकार में जुर्म पर कोई लगाम ही नहीं रह पाई है. खुलेआम अपराध हो रहे है.

प्रदेश की सरकार बने डेढ़  महिना का भी वक्त नहीं गुजरा है कि अपराध के म्मलने में आकड़ों ने योगी सरकार की पोल खोल के रख दी है. आंकड़ों के मुताबिक 16 मार्च से 30 अप्रैल के बीच अपराध में 27 फीसदी की बढ़त हुई है. यूपी सरकार के आंकड़ों के अनुसार, योगी सरकार के डेढ़ महीने में पिछले 2 सालों की तुलना में जुर्म में 27 फीसदी का इजाफा हुआ है.

महिला सुरक्षा को लेकर अखिलेश सरकार को कोसने वाली इस बीजेपी की सरकार में आंकड़ों के अनुसार सबसे ज्यादा इजाफा लूट और रेप की घटनाओं में हुआ है. सरकार का एंटी रोमियो स्क्वॉयड भी महिला को सुरक्षा नहीं दे पा रहा है.

हाल ही में यूपी के गोंडा में कानून-व्यवस्था की समीक्षा करने आए सीएम योगी के जाने के महज 2 घंटे के बाद ही शहर में पुलिस चौकी से 200 मीटर की दूरी पर दो लोगों पर धारदार हथियार से हमला कर दिया गया. इसमें एक शख्स की मौत हो गई.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE