केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकेया नायडू किसानों की कर्जमाफ़ी को फैशन बताने से पहले मध्यप्रदेश के उन 22 किसानों को भूल गए है जिन्होंने पिछले 15 दिनों में आत्महत्या की है. ये सभी किसान बीजेपी शासित मध्यप्रदेश के रहने वाले है.

इसी बीच अब छतरपुर जिले एक और किसान ने आत्महत्या कर ली है. कर्ज के बोझ तले दबे रघुवीर यादव (27) ने जहर खाकर खुदकुशी की है. रघुवीर ने 21 जून को जहर खाया और उसे बेहतर उपचार हेतु छतरपुर जिला अस्पताल से ग्वालियर ले जाया जा रहा था, लेकिन उसने रास्ते में ही कल शाम दम तोड़ दिया.

और पढ़े -   मध्यप्रदेश: ब्याज नहीं देने से असमर्थ किसान को साहूकार ने जिंदा जलाया

हालांकि, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस एस पी दोहरे ने दावा किया कि रघुवीर ने पारिवारिक विवाद के कारण आत्महत्या की है.  दोहरे ने कहा कि कुछ दिन पहले रघुवीर के पिताजी देशपत यादव ने अपने बेटों रघुवीर एवं मुंशी यादव के खिलाफ परेशान करने की शिकायत दर्ज की थी. इस परिवार में संपत्ति के बंटवारे को लेकर विवाद था.

वहीं, दूसरी ओर रघुवीर के बडे भाई मुंशी यादव ने कहा कि मेरा भाई कर्ज के कारण तनाव में था और इसी के चलते उसने आत्महत्या की है। उसने परिवार में कोई विवाद होने से इंकार किया है.

और पढ़े -   कोहराम की खबर का हुआ असर, कथित शिवसेना नेता ने किया प्रोफेसर का घर खाली

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE